अनार – हृदय रोग से बचाए!!

प्रतिदिन एक अनार का सेवन हमे हृदय रोग विशेषज्ञ से दूर रखता है अर्थात हृदय संबंधित विकारों से बचाता है।🏵️

☘️इसे प्रतिदिन नियमित रूप से लिया जा सकता है क्युकी आयुर्वेद में इसका उल्लेख पथ्य (Pathya) में किया गया है।

🌷मीठा अनार तीनों दोषों (वात, पित्त और कफ) को संतुलित करता है।

🌷यह लघु (पचने में हल्का) होता है और प्रकृति में स्निग्ध (Snigdha) होता है।
🌷यह शक्ति में अनुष्न (ना ठंडा ना गरम) होता है।

🌞अनार के स्वास्थ्य लाभ

👉यह पचने में हल्का होता है अतः बुखार के समय सेवन में अच्छा है।
👉 यह पेट या छाती में जलन और दर्द(Gastritis) से राहत देता है।

👉उल्टी में राहत पहुंचाता है। 🤮

👉अत्यधिक प्यास लगने और जलन महसूस होने पर उपयोगी है। 🥵

👉गला, छाती और मुंह की सफाई करता है।👌

👉दस्त से राहत देता है और IBS में मदद करता है। साथ ही नासूर के साथ बड़ी आंत में सूजन (Ulcerative Colitis) होने पर भी उपयोगी है।🍹


👉बुद्धिमत्ता👩‍💻, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता, शारीरिक शक्ति💪 और शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।🏃‍♂️


👉पाचन तंत्र की अग्नि को सुधारता है।🔥


👉त्वचा की रंगत को सुधारता है। 😎


👉खांसी व कफ से पीड़ित व्यक्ति को गले के दर्द से राहत देता है।🍁🤧


👉यह यकृत (Liver) के लिए टॉनिक का कार्य करता है। 🏵️


👉वीर्य की संख्या और गुणवत्ता को सुधारता है।


👉कुछ व्यक्तियों के लिए अनार कब्ज का कारण भी बन सकता है।


👉इसको मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति भी ले सकते है।👌


👉यह रक्त को पतला करने में मदद करता है। LDL को कम करने में मदद करता है और HDL को बढ़ाता है साथ ही जमी हुई गाठो (Clots) को भी खत्म करता है इसलिए यह हृदय स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। 💓

अनार के इतने फायदे है तभी इसे आयुर्वेद में नित्य सेवन के लिये बताया गया है।तो और कोई फल आप खाये या न खाए पर बीमारियो से बचना है तो अनार जरूर खाए।

Published by Dr. Amrita Sharma

I am an ayurvedic practitioner with experience of more than a decade, I have worked with best ayurvedic companies and now with the purpose of reaching out people to make them aware about ayurveda which is not just a system of treatment but a way of living to remain healthy

Leave a Reply

%d